Shayri.com

Shayri.com (http://www.shayri.com/forums/index.php)
-   Ghazal Section (http://www.shayri.com/forums/forumdisplay.php?f=14)
-   -   अब कोई भी शह सताती नहीं (http://www.shayri.com/forums/showthread.php?t=80498)

Baghbaan 31st October 2019 12:59 PM

अब कोई भी शह सताती नहीं
 
अब कोई भी शह सताती नहीं
भूली कोई बात याद आती नहीं l

जो गुज़र रही है वही तो हकीक़त है
ज़िन्दगी झूठे ख्वाब दिखाती नहीं l

राह-ए-मंजिल पे चलना ही नसीब है
मंजिल खुद-ब खुद पास आती नहीं l

साया कुछ इस कदर से बिछड़ा है मुझसे
के अब कोई भी तरकीब काम आती नहीं l

सुकूं के लिए उम्र भर भटकते रहे, मगर
जो पास है उसपे कभी नज़र जाती नहीं l

वक़्त के साथ चलना ही मुनासिब है यश
समझ में ये बात वक़्त रहते आती नहीं l

(जसपाल )
Baghbaan

Madhu 14 10th December 2019 01:07 PM

Bahot khoob jaspaalji...................

Baghbaan 17th December 2019 01:50 PM

Quote:

Originally Posted by Madhu 14 (Post 497002)
Bahot khoob jaspaalji...................


Bhut Bhut Shukriya Madhu Ji.


Jaspal


All times are GMT +5.5. The time now is 12:13 PM.

Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2020, Jelsoft Enterprises Ltd.