Shayri.com

Shayri.com (http://www.shayri.com/forums/index.php)
-   Shayri-e-Dard (http://www.shayri.com/forums/forumdisplay.php?f=4)
-   -   bhulake bhi unki jafa yaad aae (http://www.shayri.com/forums/showthread.php?t=80654)

zarraa 15th January 2022 07:55 PM

bhulake bhi unki jafa yaad aae
 
भुलाके भी उनकी जफ़ा याद आए
सितम है कि लब पे मगर दाद आए

कहा था उठा दो मुझे इस जहां से
कई हाथ करने को इमदाद* आए
*सहायता

किसी की नजर लग सके इसके पहले
हमीं ख़ुद को करके हैं बर्बाद आए

परिंदों को उजड़े चमन में बुलाओ
चमन को बसाने हैं सय्याद आए

अजी हम तो महफ़िल में आके ही ख़ुश हैं
करम उनपे कीजे जो नाशाद* आए
*अप्रसन्न

सबक़ भूलना कोई सीखे तो हमसे
न जाने हैं कितने ही उस्ताद आए

उमीदें थीं हममें उमीदों में हम थे
सो करके सभी को हम आज़ाद आए

सदाओं में मेरी असर भी था लेकिन
फ़रिश्ते बुलाए तो जल्लाद आए

हुए जाए “ज़र्रा” तबाह शायरी में
जो लब दाद दें उनपे फ़रियाद आए

- ज़र्रा

bhulake bhi unki jafa yaad aae
sitam hai ki lab pe magar daad aae

kaha tha utha do mujhe is jahaaN se
kai haath karne ko imdaad* aae
*asssistance

kisi ki nazar lag sake iske pehle
humeeN KHud ko karke haiN barbaad aae

parindoN ko ujDe chaman meN bulaao
chaman ko basaane haiN sayyaad aae

aji hum to mehfil meN aake hi KHush haiN
karam unpe keeje jo naashaad* aae
*unhappy

sabaq bhoolna koi seekhe to humse
na jaane haiN kitne hi ustaad aae

umeedeN theeN hum meN umeedoN meN hum the
so karke sabhi ko hum aazaad aae

sadaaoN meN meri asar bhi tha lekin
farishte bulaae to jallaad aae

hue jaae “zarraa” tabaah shaayari meN
jo lab daad deN unpe fariyaad aae

- zarraa

aru 12th July 2022 01:03 PM

Bahut umdaa likha hai zarra jee


All times are GMT +5.5. The time now is 09:33 PM.

Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2022, Jelsoft Enterprises Ltd.