Shayri.com

Shayri.com (http://www.shayri.com/forums/index.php)
-   Shayri-e-Dard (http://www.shayri.com/forums/forumdisplay.php?f=4)
-   -   sab se ye sunte aa’e the aage jaana mushkil hai (http://www.shayri.com/forums/showthread.php?t=80628)

zarraa 24th July 2021 09:38 AM

sab se ye sunte aa’e the aage jaana mushkil hai
 
सब से ये सुनते आए थे आगे जाना मुश्किल है
पर उस से भी और ज़ियादा लौट के आना मुश्किल है

सर को कटाना आसां है और सर को झुकाना मुश्किल है
लेकिन अपने घर वालों को ये समझाना मुश्किल है

प्यार पे काफ़ी बोल रहे कुछ और बड़े ख़ामोश हैं कुछ
प्यार जताना सहल* नहीं पर प्यार निभाना मुश्किल है

लुत्फ़ जिन्हें आता है उन को दर्द सुनाया करते हैं
दर्द जिसे होगा उस को तो दर्द सुनाना मुश्किल है

फिर भी हैं उम्मीद में जीते आने वाले ज़माने की
वरना पिछले ज़माने से तो अगला ज़माना मुश्किल है

जुर्म का मैं इक़बाल करूँ तो मुझ को बरी वो कर देंगे
लेकिन उस के बाद मुझे ये झूट छुपाना मुश्किल है

वैसे तो सब लोग यहाँ पर आँखें फेरा करते हैं
बस उरयानी* के लम्हे में आँख चुराना मुश्किल है

किस मुश्किल में हैं बेचारे हम पे सितम करने वाले
हम को सताने पर समझे हैं हम को सताना मुश्किल है

“ज़र्रा” गर बे-सूद* हों तो बातों के मोती के झरते हैं
कुछ पाने का इमकां* है तो बात बनाना मुश्किल है

* सहल = सरल, उरयानी = नग्नता, बे-सूद = बिना लाभ का, इमकां = सम्भावना

- ज़र्रा

sab se ye sunte aa’e the aage jaana mushkil hai
par us se bhi aur ziyaada laut ke aana mushkil hai

sar ko kataana aasaaN hai aur sar ko jhukaana mushkil hai
lekin apne ghar vaaloN ko ye samjhaana mushkil hai

pyaar pe kaafi bol rahe kuchh aur baDe KHaamosh haiN kuchh
pyaar jataana sahal* naheeN par pyaar nibhaana mushkil hai
*easy

lutf jinheN aata hai un ko dard sunaaya karte haiN
dard jise hoga us ko to dard sunaana mushkil hai

phir bhi haiN ummeed meN jeete aane vaale zamaane ki
varna pichhle zamaane se to agla zamaana mushkil hai

jurm ka maiN iqbaal karooN to mujh ko bari vo kar deNge
lekin us ke baad mujhe ye jhoot chhupaana mushkil hai

vaise to sab log yahaaN par aaNkheN phera karte haiN
bas uryaani* ke lamhe meN aaNkh churaana mushkil hai
*nakedness

kis mushkil meN haiN bechaare hum pe sitam karne waale
hum ko sataane par samjhe haiN hum ko sataana mushkil hai

“zarraa” gar be-sood* hoN to baatoN ke moti jharte haiN
kuchh paane ka imkaaN** hai to baat banaana mushkil hai
*without profit **possibility

- zarraa

m.mayoos 27th July 2021 10:24 PM

किस मुश्किल में हैं बेचारे हम पे सितम करने वाले
हम को सताने पर समझे हैं हम को सताना मुश्किल है

Well said...


All times are GMT +5.5. The time now is 12:54 PM.

Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2021, Jelsoft Enterprises Ltd.